खबर न्यूज़: दिल्ली कैपिटल्स से हार के बाद धोनी ने बताया कि ब्रावो नहीं जडेजा ने थक्का आखिरी ओवर में – एमएस धोनी बताता है कि रवींद्र जडेजा ने ड्वेन ब्रावो को अंतिम ओवर में गेंदबाज़ी नहीं की।

शारजाह
शनिवार को दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपर किंग्स को पांच विकेट से हराकर पॉइंट्स टेबल में टॉप पर पहुंच गया। दिल्ली के सामने 180 रन का लक्ष्य था जिसे उन्होंने शिखर धवन की आईपीएल में पहले सेंचुरी की मदद से 1 गेंद बाकी रहते 185 रन बनाकर हासिल कर लिया। आखिरी ओवर में दिल्ली को 15 रन चाहिए थे। चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने रविंद्र जडेजा को गेंद सौंपी।

धोनी का यह फैसला गलत साबित हुआ और अक्षर पटेल ने चार छक्के लगाकर मैच अपनी टीम को जीत दिलाई। हालांकि धोनी के इस फैसले की हैरानी हुई कि आखिरकार उन्होंने ड्वेन ब्रावो । ओवर क्यों नहीं दिया।) ब्रावो आखिरी ओवरों के विशेषज्ञ माने जाते हैं लेकिन बाएं हाथ के शिष्यों के सामने धोनी ने बाएं हाथ के स्पिनर को ही गेंद क्यों सौंप दी और वह भी तब जब शारजाह की बाउंड्री बहुत छोटी है। हालांकि धोनी ने मैच के बाद बताया कि आखिर क्यों ब्रावो ने आखिरी ओवर नहीं फेंका।

स्कोरकार्ड
धोनी ने बताया, ‘ब्रावो फिट नहीं थे। वह वापस आने के योग्य नहीं थे। इसी कारण से उन्होंने जडेजा को ओवर दिया। ‘ धोनी ने कहा कि उनके पास कर्ण शर्मा और जड्डू में से किसी एक को गेंदबाजी देने का विकल्प था और उन्होंने जडेजा को चुना। धोनी ने कहा, ‘शायद यह काफी नहीं था।’

उन्होंने माना कि धवन का विकेट काफी जरूरी था। धवन ने 58 गेंद पर 101 रन की नाबाद पारी खेली। धोनी ने कहा, ‘हमने शिखर को कुछ मौके दिए। हमने कई बार उनके कैच छोड़े। जब तक वह क्रीज पर होते हैं तब स्ट्राइक रेट बनाए रखते हैं। मुझे लगता है कि उनका विकेट बहुत जरूरी था। ‘

धोनी ने यह भी माना, ‘मुझे लगता है कि पहली पारी के मुकाबले दूसरी पारी में विकेट में बदलाव आ गया था। दूसरी पारी में विकेट की बल्लेबाजी के लिए आसान हो गया था। लेकिन कुल मिलाकर हम धवन से श्रेय वापस नहीं ले सकते, उन्होंने काफी अच्छी बल्लेबाजी की और बाकी खिलाड़ियों ने उनका अच्छा साथ दिया। ‘

Source link

Spread the love

Leave a Reply